शुक्रवार, 17 जून 2011

आटोग्राफ (कविता)

आटोग्राफ
मैंने
सूखे, हरियाली विहीन
धुप में शान से सर उठाये खड़े
पहाड़ के चित्र पर हस्ताक्षर कर दिए-

अपने आटोग्राफ की तरह-
*********

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी पोस्ट की चर्चा कृपया यहाँ पढे नई पुरानी हलचल मेरा प्रथम प्रयास

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर । आपके हस्ताक्षर पहाढों की ऊँचाइयाँ ऐसे ही छूते रहें ।

    उत्तर देंहटाएं