सोमवार, 15 जून 2009

इन दिनों थोड़ी फुर्सत है तो कुछ पुराने कागजात खंगाल रहा हूँ। पुरानी ग़ज़लें और गीत और ......... बहुत कुछ अपनी स्मृतियों के साथ फिर से निकल-निकल कर आ रहे हैं। ........ (चंद तस्वीरे-बुतां, चंद हसीनों के खुतूत, बाद मरने के मिरे घर से ये सामां निकला।)
एक और ग़ज़ल भेज रहा हूँ। इस पर तारीख पड़ी है- 22-09-1991. आप सबकी प्रतिक्रया का इंतज़ार रहेगा.....

एक ग़ज़ल : बाद मुद्दत के .......

बाद मुद्दत के इक हंसी देखी।
एक मजलूम की खुशी देखी।
उनको देखा तो यूँ लगा मुझको-
जैसे बर-बह्र शाइरी देखी।
दिल के हाथों ही हम हुए मजबूर
हमने ऐसी भी बेबसी देखी।

है सितारा बुलंद किस्मत का-
उनकी आँखों में बेखुदी देखी।

नींद- तेरा बड़ा है शुकराना
ख्वाब में हमने आशिकी देखी।

यूँ हुआ इल्म मुक़म्मल अपना-
हमने जब प्यार-दोस्ती देखी।
* * * * * * * *

7 टिप्‍पणियां:

  1. यूँ हुआ इल्म मुक़म्मल अपना-
    हमने जब प्यार-दोस्ती देखी। ‘.

    bahut khoobsoorat kahaa

    जानेमन इतनी तुम्हारी याद आती है कि बस......’



    इस गज़ल को पूरा पढें यहां
    श्याम सखा ‘श्याम’

    http//:gazalkbahane.blogspot.com/ पर एक-दो गज़ल वज्न सहित हर सप्ताह या
    http//:katha-kavita.blogspot.com/ पर कविता ,कथा, लघु-कथा,वैचारिक लेख पढें

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut hi sunder rachna hai....
    aapko dil se badhai....
    aapka mere blog par swagat
    hai...........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्‍छा लिखते हैं आप
    ब्‍लॉग आया हम तक पहुंचा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाद मुद्दत के इक हंसी देखी।
    एक मजलूम की खुशी देखी।
    उनको देखा तो यूँ लगा मुझको-
    जैसे बर-बह्र शाइरी देखी।
    दिल के हाथों ही हम हुए मजबूर
    हमने ऐसी भी बेबसी देखी।

    shabdon ki aisi khoobsurati bahut kam dikhti hai, par jab bhi dikhti dil sirf itna hi kah pata hai... wah wah...

    pichhle lagbhag ek saalon se blog mein hun par aaj paschaatap ho raha hai aapke blog ko aaj dekh kar...

    उत्तर देंहटाएं
  5. नई कविता भी लिखी है या सिर्फ गज़ल लिखते है?

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप तो सिद्धहस्त हैं...दर्शनाभिलाषी..
    कुलवंत सिंह

    उत्तर देंहटाएं