बुधवार, 27 मई 2009

चार मिसरे-

चार मिसरे-

मैं तुम्हारे ख़्वाबों का इक जहां बनाऊंगा।

प्यार के मुरीदों का कारवां बनाऊंगा।

मुझको तेरी साँसों की फूल सी छुवन की कसम-

लौट के अगर आया- आसमां बनाऊंगा.

4 टिप्‍पणियां:

  1. jahaan khatm hoga ye jahaan,
    main tere liye ik jahaan banaungaa..
    tu ishaaraa bhar kar de....
    main wo jahaan , wahaan banaunga....

    likhte rahein.......

    उत्तर देंहटाएं
  2. चारो मिसरे बहुत अच्छे लगे.धन्यवाद.

    महेंद्र मिश्र
    जबलपुर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. चारो मिसरे बहुत अच्छे लगे. धन्यवाद.
    महेंद्र मिश्र
    जबलपुर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह!!


    अब आ भी जाईये यहाँ लौट कर...आसमां बनने का इन्तजार कर रहा है. दर्शन दुर्लभ.

    उत्तर देंहटाएं